छत्तीसगढ़

अंतर्राष्ट्रीय सांकेतिक भाषा दिवस, कोपलवाणी के बच्चों और शिक्षकों के द्वारा विभिन्न शिक्षण संस्थानों में साइन लैंग्वेज का जागरूकता अभियान

इंटरनेशनल साइन लैंग्वेज डे अपने आप में बहुत विशेष है

AINS NEWS RAIPUR…. अंतर्राष्ट्रीय सांकेतिक भाषा दिवस के उपलक्ष में कोपलवाणी के बच्चों और शिक्षकों के द्वारा विभिन्न शिक्षण संस्थानों में साइन लैंग्वेज का जागरूकता अभियान चलाया गया। कोपलवाणी स्पेशल स्कूल के सभी बच्चों द्वारा अलग अलग टीम बनाई गई और इन सभी बच्चों ने विभिन्न स्कूल एवम कॉलेज में अध्ययन कर रहे सामान्य बच्चों को साइन लैंग्वेज का सामान्य प्रशिक्षण दिया गया जिससे सामान्य बच्चे इन दिव्यांग बच्चों की बातें समझ सके और उनसे संवाद कर सकें। कोपलवाणी की संस्थापक श्रीमती पदमा शर्मा ने बताया कि इंटरनेशनल साइन लैंग्वेज डे अपने आप में बहुत विशेष है अतः आज के विशेष दिवस पर डीपीएस स्कूल,साइंस कॉलेज ,मदर्स प्राइड स्कूल,कार्डिनल स्कूल,एम एस बी एजुकेशनल इंस्टीट्यूट जैसे 10 शिक्षण संस्थाओं में जाकर हमारे दिव्यांग बच्चों द्वारा यह अवेयरनेस प्रोग्राम चलाया गया।

सांकेतिक भाषा आम जनमानस को समझ में नहीं आती जिसके कारण इन मूक बधिर बच्चों को कई प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, वे किसी से बात नहीं कर सकते न ही किसी को अपनी समस्या बता सकते हैं और इसी कठिनाइयों को कुछ कम करने के उद्देश्य से एवं आम जनमानस को साइन लैंग्वेज समझने हेतु प्रेरित करने के लिए यह अवेयरनेस कार्यक्रम संस्था द्वारा आयोजित किया गया। बेसिक साइन लैंग्वेज में बच्चों द्वारा अल्फाबेट्स,सब्जियों एवं फलों के नाम तथा सामान्य दिनचर्या में प्रयोग होने वाले शब्दों को सांकेतिक भाषा में सिखाया गया।कोपलवाणी की ओर से सुनीता चंसोरिया,प्रीति उपाध्याय,अंजलि देशपांडे, आसिया बानो, विशाखा पांडे,विशेष गुर्जर आदि उपस्थित रहे।

 

Related Articles

Back to top button