राष्ट्रीय

जंतर मंतर में सत्याग्रह , ‘अग्निपथ’ भर्ती योजना को तत्काल वापस लेने की मांग

केंद्र सरकार के गलत फैसले के कारण इस योजना का विरोध हो रहा है

AINS DESK…अग्निपथ योजना को लेकर अब राजनीतिक संग्राम छिड़ा हुआ है। प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी के नेता बड़ी संख्या में दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे हैं। इस दौरान उन्होंने कहा कि युवा देश की सेवा करने के लिए पूरे जीवन भर सेना में भर्ती होना चाहते हैं। लेकिन केंद्र सरकार के गलत फैसले के कारण इस योजना का विरोध हो रहा है। सरकार को इस योजना को वापस लेना चाहिए। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से आज उनका जन्मदिन नहीं मनाने की अपील की है।

कांग्रेस के सत्याग्रह में प्रियंका गांधी, सचिन पायलट, दिग्विजय सिंह, केसी वेणुगोपाल, अधीर रंजन चौधरी सहित पार्टी के कई और दिग्गज नेता मौजूद है। इस दौरान पार्टी नेता सचिन पायलट ने कहा कि कोविड के बहाने से आपने 2 साल से भर्तियां रोक रखी थी। 1.25 लाख भर्तियां केवल फौज में खाली है। आप सिर्फ भ्रमित कर लोगों का भविष्य खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। हम सत्याग्रह कर सरकार को यह योजना वापस लेने के लिए मजबूर करेंगे।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि देश की सेवा करने के लिए पूरे जीवन भर सेना में भर्ती होना चाहते हैं। ये जो भी हो रहा है गलत हो रहा है। इस योजना को वापस लेना चाहिए। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से रविवार को उनका जन्मदिन नहीं मनाने की अपील की है। राहुल ने पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से एक संदेश में कहा कि देश के युवा परेशान हैं और सड़कों पर विरोध कर रहे हैं, कांग्रेस कार्यकर्ताओं को उनके साथ खड़ा होना चाहिए। एक ट्वीट में कांग्रेस नेता ने कहा कि बार-बार नौकरी की झूठी उम्मीद दे कर, प्रधानमंत्री ने देश के युवाओं को बेरोज़गारी के ‘अग्निपथ’ पर चलने के लिए मजबूर किया है। 8 सालों में, 16 करोड़ नौकरियां देनी थीं मगर युवाओं को मिला सिर्फ़ पकोड़े तलने का ज्ञान। देश की इस हालत के ज़िम्मेदार केवल प्रधानमंत्री हैं।

इससे पहले कांग्रेस ने केंद्र सरकार से सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए पेश की गई ‘अग्निपथ’ भर्ती योजना को तत्काल वापस लेने की मांग की थी और कहा कि उसे राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करना बंद करना चाहिए और युवाओं को आग में नहीं झोंकना चाहिए। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने ‘अग्निपथ’ योजना को शनिवार को ‘दिशाहीन’ बताया और कहा कि उनकी पार्टी इसे वापस करवाने के लिए संघर्ष का वादा करती है। उन्होंने इस योजना का विरोध कर रहे युवाओं से अपनी मांगों के लिए शांतिपूर्ण और अहिंसक ढंग से आंदोलन करने की अपील की।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button