छत्तीसगढ़

इसी सत्र से लैलूंगा और लुण्ड्रा में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय, कक्षा 6वीं में प्रवेश के लिए आरक्षण नियम संशोधित

आवासीय विद्यालयों में कृषि और वाणिज्यिक संकाय प्रारंभ करने का प्रस्ताव

AINS RAIPUR…आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम की अध्यक्षता में आज मंत्रालय महानदी भवन में आवासीय एवं आश्रम संस्थान संचालक मंडल की बैठक में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। शिक्षण सत्र 2022-23 से रायगढ़ जिले के लैलूंगा और सरगुजा जिले के लुण्ड्रा में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय का प्रारंभ होंगे। दोनों विद्यालय में 60-60 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा। बैठक में आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास विभाग के सचिव श्री डी.डी. सिंह, आयुक्त श्रीमती शम्मी आबिदी सहित संचालक मंडल के सदस्य उपस्थित थे।

विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग

एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के ड्रापआउट बच्चों के लिए रायपुर के सड्डू में कोचिंग सेंटर बनाया जाएगा। यहां भवन निर्माण के लिए 15 करोड़ रूपए की राशि स्वीकृत की गई है। इस कोचिंग सेंटर में एकलव्य विद्यालयों से कक्षा 12वीं उत्तीर्ण विद्यार्थियों को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग दी जाएगी। बैठक में शिक्षण सत्र 2021-22 में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के विद्यार्थियों को जेईई और नीट परीक्षा की तैयारी के लिए क्रैश कोर्स की कार्ययोजना का अनुमोदन किया गया। उल्लेखनीय है कि सभी एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय से स्क्रीनिंग टेस्ट कराकर 101 प्रतिभावान विद्यार्थियों का चयन किया गया। इसमें नीट के लिए 51 और जेईई के लिए 50 विद्यार्थी कोचिंग के लिए चयनित हुए है। मंत्री डॉ. टेकाम ने कहा कि आगामी वर्ष से 200 विद्यार्थियों को कोचिंग देने का लक्ष्य रखे। इसमें मेडिकल, इंजीनियरिंग के साथ ही कृषि इंजीनियरिंग और न्यायिक प्रवेश परीक्षा (क्लेट) की भी कोचिंग दी जाए। बैठक में बताया गया कि वर्तमान में 73 विद्यार्थियों को आयुक्त कार्यालय पंडित रविशंकर शुक्ल विद्यालय परिसर में कोचिंग प्रदान की जा रही है।

प्रवेश आरक्षण नियम संशोधित

बैठक में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में शैक्षणिक सत्र 2022-23 में कक्षा 6वीं में प्रवेश के लिए संशोधित आरक्षण नियम का अनुमोदन किया गया। जिसके अनुसार अनुसूचित जनजाति के विशेष पिछड़ी जनजाति- कमार, अबूझमाड़िया, पहाड़ी कोरवा, बिरहोर, बैगा, पण्डो और भुंजिया के विद्यार्थियों को प्रवेश में प्राथमिकता दी जाएगी।

घूमंतु एवं अनाथ बच्चों को प्रवेश में प्राथमिकता

एकलव्य विद्यालय में कार्यरत् अमले केे कर्मचारियों के अधिकतम दो बच्चों को डे-स्कालर के रूप में विद्यालय में अध्ययन-अध्यापन की सुविधा प्रदान की जाएगी, जो स्वीकृत सीट से अतिरिक्त होगी। कुल स्वीकृत सीट का 10 प्रतिशत आरक्षण घूमंतु समुदाय के बच्चे, ऐसे बच्चे जो अपने माता-पिता को वामपंथ उग्रवाद, विद्रोह, कोविड में खो चुके है, विधवा महिला के बच्चे, दिव्यांग माता-पिता के बच्चे और अन्य जैसे- भूमिदान करने वाले परिवार के बच्चे, अनाथ बच्चे को इन स्कूलों में दाखिला मिलेगा। यह बच्चे अनुसूचित जाति वर्ग के हो और प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए हो। शेष सीट अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्रों से भरी जाएगी। आरक्षित सीटों के लिए बच्चे न मिलने पर सीटों की पूर्ति अनुसूचित जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों से की जाएगी।

कृषि एवं वाणिज्य संकाय शुरू होंगे

बैठक में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में कृषि और वाणिज्यिक संकाय प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया। इसके लिए एकलव्य विद्यालयों में अध्ययनरत् विद्यार्थियों से फीडबैक भी लिया गया है। उल्लेखनीय है कि एकलव्य विद्यालयों में केवल विज्ञान एवं गणित संकाय की ही पढ़ाई हो रही थी।

16 आदिवासी विकासखंडों में एकलव्य का प्रस्ताव

बैठक में प्रदेश के 16 आदिवासी विकासखंडों में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के संचालन के लिए वहां की जनसंख्या और साक्षरता दर के अनुसार प्राथमिकता से एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय खोले जाने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। उल्लेखनीय है कि इन 16 विकासखंडों में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय संचालित नहीं है। यहां एकलव्य विद्यालय खोलने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा जा चुका है। प्रदेश में वर्तमान में 29 एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय अंग्रेजी माध्यम में संचालित है। शेष विद्यालयों में वर्ष 2022-23 से कक्षा 6वीं में अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई प्रारंभ किया जाना प्रस्तावित है। शेष कक्षाएं यथावत संचालित रहेंगी।

शैक्षणिक कैलेण्डर अनुमोदित- स्किल बढ़ाने विविध गतिविधियां

बैठक में वर्ष 2022-23 के शैक्षणिक कैलेण्डर का अनुमोदन किया गया। जिसके अनुसार कक्षा 10वीं की कक्षाएं 1 जून और कक्षा 6वीं से 6वीं तक की कक्षाएं 10 जून से प्रारंभ होंगी। कक्षा 12वीं में नव प्रवेशित विद्यार्थियों की कक्षाएं 30 मई से पुनः प्रारंभ की जाएगी। विद्यालय में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी हेतु कोचिंग प्रारंभ होने के फलस्वरूप ग्रीष्मकालीन अवकाश नहीं दिया जाएगा। ग्रीष्मकालीन अवकाश में सह-शैक्षणिक गतिविधियां-पेंटिंग, साफ्ट स्किल, हैण्डीक्राफ्ट, कार्टून वर्कशाप, चलित विज्ञान मॉडल और रोबोटिक्स इत्यादि के लिए विशेष शिविर का आयोजन किया जाएगा। सीबीएसई पाठ्यक्रम से अध्यापन हेतु शिक्षकों को 5 जून से 15 जून तक विषय-विशेषज्ञों को आमंत्रित कर प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसी प्रकार यूनिसेफ के सहयोग से एकलव्य विद्यालय के प्राचार्य और अधीक्षकों का बच्चों के मनोसामाजिक विकास एवं संस्था संचालन और क्षमता विकास का प्रशिक्षण 8 जून से 13 जून तक आयोजित किया जाएगा।

एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के कर्मचारियों को सातवें वेतनमान के तृतीय एवं चतुर्थ किस्त की अनुमानित राशि 350 लाख रूपए का एरियर्स प्रदाय किया जाएगा। दूरस्थ अंचल में स्थित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में क्वालिफाई शिक्षकों की व्यवस्था एवं अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों में अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों को आकर्षित करने प्रति कालखंड के मानदेय में वृद्धि का प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button