छत्तीसगढ़

50 आयुर्वेदिक चिकित्सकों का हुआ सम्मान, राजस्थान औषधालय ने भारत के लाखों लोगों को दिलाई शराब से मुक्ति

डॉक्टर्स सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि जिले के प्रसिद्ध आयुर्वेदाचार्य डॉ. राकेश पाल गुप्ता ने कहा कि आयुर्वेदिक चिकित्सकों ने अपनी जान की बाजी लगाकर लाखों कोविड-19 के मरीजों की जिंदगी बचाई

बिलासपुर।। राजस्थान औषधालय (आरएपीएल ग्रूप) मुम्बई द्वारा पूरे भारत भर में चलाये जा रहे डॉक्टर्स सम्मान समारोह के तहत छतीसगढ़ के बिलासपुर जिला मुख्यालय पुराना बस स्टैंड, टेलिफोन ऐक्सचेंज के पास स्थित निजी होटल में रविवार को डॉक्टर्स सम्मान समारोह सम्पन्न हुआ, जिसमे बिलासपुर जिले के 50 आयुर्वेदिक चिकित्सकों को सम्मानित किया गया।

डॉक्टर्स सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि जिले के प्रसिद्ध आयुर्वेदाचार्य डॉ. राकेश पाल गुप्ता ने कहा कि आयुर्वेदिक चिकित्सकों ने अपनी जान की बाजी लगाकर लाखों कोविड-19 के मरीजों की जिंदगी बचाई, कोरोना योद्धा आयुर्वेद के चिकित्सक हैं, अगर भारत में आयुर्वेदिक औषधियों तथा प्रणाली का प्रयोग नहीं किया जाता तो कोरोना को नियंत्रित करना मुश्किल साबित होता। उन्होंने सभी चिकित्सकों को बधाई देते हुए कहा कि आयुर्वेदिक चिकित्सकों ने कोरोना से जंग जितवाने में मुख्य निभाई साथ ही उस समय हर घर में आयुर्वेदिक प्रणाली का उपयोग किया गया। उसी को देखते हुए आरएपीएल ग्रूप मुम्बई ने पूरे भारत भर के आयुर्वेदिक चिकित्सकों को जिला स्तर पर कार्यक्रम आयोजित कर सम्मानित करने का निर्णय लेकर चिकित्सकों का मनोबल बढ़ाने का कार्य किया है।

समारोह के बतौर अतिथि डॉ. प्रदीप शुक्ला ने कहा कि राजस्थान औषधालय मुम्बई द्वारा आयुर्वेदिक चिकित्सकों का सम्मान कर नई ऊर्जा दी हैं, आयुर्वेदिक चिकित्सकों द्वारा जिस तरह से जिले में कोरोना काल के दौरान सेवा की गई, उसी का परिणाम हैं, कि राजस्थान औषधालय ने उन्हें सम्मान से नवाजा। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दौरान चिकित्सकों ने अपनी जान की बाजी लगाकर मानवीय सेवा कर साबित किया कि चिकित्सक भगवान का दूसरा रूप होता है। उसी को देखते हुए आरएपीएल ग्रूप ने जिले के डॉक्टर्स का सम्मान कर मनोबल बढ़ाने का काम किया है।

डॉक्टर्स सम्मान समारोह में डॉ. राम मोनी पांडे ने कहा कि कोविड-19 के दौरान निस्वार्थ भाव से आयुर्वेदिक चिकित्सकों ने कोरोना के मरीजों की जान बचाई। जिसे हमेशा याद रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि राजस्थान औषधालय आयुर्वेद के क्षेत्रा में किसी परिचय का मोहताज नहीं है। उन्होंने आरएपीएल ग्रूप के चैयरमेन रहे डॉ. सलाऊदीन चोपदार को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्होंने भारत में नशा मुक्त अभियान की शुरूआत कर देश के लाखों लोगों को नशा मुक्ति की दवा देकर नया जीवनदान दिया।

इस दौरान डॉक्टर्स सम्मान समारोह में डॉ. हेमंत कौशिक डॉ. संजय जयस्वाल ने अपने सम्बोधन में कहा कि आयुर्वेदिक औषधियां कोरोना काल के दौरान कारगर साबित हो रही थी, उस समय आयुर्वेद के डॉक्टर्स के उपर भी बड़ी जिम्मेवारियां आई, जिसका जिले के चिकित्सकों ने सामना किया। उसी मेहनत को समझते हुए राजस्थान औषधालय ने सम्मानित कर आयुर्वेदिक डॉक्टर्स को नई दिशा देने का काम किया है। डॉक्टर्स सम्मान समारोह की शुरूआत धन्वतंरी पूजा से की गई, जिसमें अतिथियों ने धन्वतंरी की प्रतिमा पर दीप प्रजवल्लित किया। डॉक्टर्स सम्मान समारोह में अतिथियों एवं जिले के सभी डॉक्टर्स को राजस्थान औषधालय मुम्बई (आरएपीएल ग्रूप) परिवार की ओर से माला, शॉल, साफा प्रतिक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। इस दौरान कार्यक्रम में आरएपीएल ग्रुप के चैयरमेन रहे डॉ. एस.डी. चोपदार को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई।

इस दौरान डॉक्टर्स सम्मान समारोह में डॉ. प्रीती मितु, डॉ. अनिल जासवाणी, डॉ. राजेश होरे, डॉ. अमित सिंह जाखड़, डॉ. ् ए. विश्वास, डॉ. एस.एस. अशरफी, डॉ. सच्चितानंद कौशिक, डॉ. के दास, सम्मान समारोह प्रभारी आसिफ अख्तर, इंद्र केआर श्रीवास, आरएपीएल ग्रूप के कृष्णकांत कुशवाहा, दुर्गेश साहू, कोर्डिनेटर अफरीदी राजा सहित जिले भर के आयुर्वेदिक चिकित्सक उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button