राष्ट्रीय

एक्सपर्ट ने बताया कंजेनाइटल डिफेक्ट, सागर में जन्मा दो पैर वाला अनोखा बछड़ा देखने पहुंचे लोग

पशु चिकित्सकों ने बछड़े की जांच के बाद उसे पूरी तरह से स्वस्थ बताया है। बछड़े के आगे दो पैर नहीं है,केवल पीछे के दो पैर हैं।

मध्यप्रदेश के सागर जिले के गढ़ाकोटा दो पैरों वाले बछड़े के जन्म का अनोखा मामला सामने आया। गढ़ाकोटा के कमला नेहरू वार्ड में रहने वाले मनोज कोरी की गाय ने दो पैरों वाले बछड़े को जन्म दिया है। मध्यप्रदेश के सागर जिले के गढ़ाकोटा दो पैरों वाले बछड़े के जन्म का अनोखा मामला सामने आया। गढ़ाकोटा के कमला नेहरू वार्ड में रहने वाले मनोज कोरी की गाय ने दो पैरों वाले बछड़े को जन्म दिया है। जैसे ही क्षेत्र के लोगों को इस बात की जानकारी लगी, मनोज कोरी के घर बछड़े को देखने वालों की भीड़ लग गई। दो पैरों वाला बछड़ा क्षेत्र में कौतूहल का विषय बना हुआ है, पूरे इलाके में सिर्फ बछड़े की ही चर्चा हो रही है। मनोज ने बछड़े के जन्म के बाद पशु चिकित्सकों से भी संपर्क किया।

पशु चिकित्सकों ने बछड़े की जांच के बाद उसे पूरी तरह से स्वस्थ बताया है। बछड़े के आगे दो पैर नहीं है,केवल पीछे के दो पैर हैं। वहीं, एक्सपर्ट ने इसे कंजेनाइटल डिफेक्ट बताया है। गाय के मालिक मनोज कोरी ने बताया कि गाय ने शनिवार रात को बछड़े को जन्म दिया है। जन्म के बाद जब उन्होंने बछड़े को देखा तो उसके आगे के पैर नहीं थे। बछड़े के देखकर वे भी हैरान रह गए। उन्होंने कहा कि इससे पहले उन्होंने कभी दो पैर वाला गाय का बछड़ा नहीं देखा। पशु चिकित्सा सर्जन डॉ. जयश्री नेमा का कहना है कि गाय ने दो पैरों वाले बछड़े को जन्म दिया है। इसे विज्ञान की भाषा में कंजेनाइटल डिफेक्ट कहा जाता है। जो कि जन्मजात दोष और विसंगतियों के कारण होता है। उन्होंने कहा कि यदि बछड़े को उचित पोषण आहार मिले तो वह आगे भी स्वस्थ जीवन जी सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button